Movement

Co-Operative Movement

National Level Associations / Federations Of Co-Operatives

 

 

 

  1. International Co-operative Alliance
    • Headquarters – 11. Upper grosvenor Street, London, WIX 9 P. A. England.
    • South East Asia office-9, Aradhana Enclave (Ring Road), Sector 13, R.K. Puram, New Delhi 110066
  2. National Co-operative Union of India 3Siri Institutional Area, August Kranti Marg ,Newr Delhi 110 016.
  3. National Federation of Urban Banks and Credit Societies Ltd. B-14, 3rd floor, A Block, Shopping , Center Naraina Vihar, Ring Road, New Delhi 110028
  4. National Federation of State Co-operative Bank Ltd. P.B.No.114, J. K. Chambers, 5th Floor, Sector 17, Vashi, Navi Mumbai 400 703.
  5. National Co-operative Agricultural & Rural Development Banks Federation Ltd. Takshila, Madhavdas Pasta Road, Dadar (E), Mumbai 400 014.
  6. All India industrial Co-operative Banks Federation Ltd. Bangalore, Karnataka 560
  7. National Agricultural Co-operative Marketing Federation of India Ltd. Sapna Theatre Bldg.,54,East Kailash, New Delhi 110 065.
  8. National Co-operative Consumers Federation Ltd.Deepali, 5th Floor, 92. Nehru Place, New Delhi 110 009.
  9. National Co-operative Dairy Federation of India Ltd. Anand Gujarat 388 001.
  10. National Federation of Fishermen’s Co-operative Ltd., 66, Tughlakabad Industrial Area M.B.Road, New Delhi 110062.
  11. All India Handloom Fabrics Co-operative Marketing Society Ltd. Mansiram House, Plot No.1811 ,Community Center, Industrial Area. Delhi 110035.
  12. National Co-operative Housing Federation Ltd.DA House, Sector IV, R.K.Puram, New Delhi 110016.
  13. National Federation of Industrial Co-operatives Ltd. 3 Siri institutional Area, August Kranti 016.
  14. National Federation of Labor Co-operatives Ltd. 3 Siri institutional Area, August Kranti Marg, New Delhi 110 016.
  15. The All India Fedeiation of Co-operative Spinning Mills Ltd.
  16. National Federation of Co-operative Sugar Factories Ltd. Vaikunth Building, 82-83, Nehru Place, New Delhi t 10 019.
  17. National Co-operative Tobacco Growers Federation Ltd., Opp.Ganesh Dugdhalaya, Anand,Gujarat 388 001.
  18. Tribal Co-operative Federation Ltd., 3, Siri institutional Area, August Kranti Marg, New Delhi 110 01 6.
  19. National Council for Co-operative Training 3 Siri Institutional Area, August Kranti Marg, New Delhi 110 016
  20. Vaikunth Mehta National Institute of Co-operative Management. University Road, Pune, Maharashtra 411 007.

Proudly Co-Operative Movement

Co-Operative Flag

Co-Operative Flag

flag

Rainbow is regarded as an auspicious omen, Farmers see the Rainbow and Start ploughing their fields, They read in it the massage about rains to come, It is thus a symbol of hope, a harbinger of peace.

Men see co-operation in its multi-coloured pattern, each colours blending with the other to make one harmonious whole and ultimately all pervading harmony-unity in Diversity. The seven hues of the Rainbow when blended together reunite to present pure unstained white effulgence. Thus it stands for purity, truth and righteousness. It symbolize the aims and idea of the cooperative movement. Like the Rainbow, Co-operation bring hope to the depressed, achieves harmony among diverse interests and offers the promise of an ultimate and universal peace. Co-operator by their own effort, inspired by a sense of fraternity, equity and love of the social justice, strive to remedy the past and create a new economic system-a system in which capital plays the role of servant instead of master, the object of production is organised self-help instead of profit and human dignity is given the pride of place for achieving a more equitable and efficient economy, better social adjustment and a more balance system of democracy. Download Co-Operative Flag Information About Colors

Sahakarita

सहकारिता     सहकारी समितियां एक प्रकार का सामाजिक उद्यम होती हैं जो सदस्यों की भलाई के लिए सदस्यों के द्वारा संचालित की जाती हैं। सहकारी समितियां आकार में छोटे भण्डार से लेकर फ़ोच्र्यून 500 कम्पनियों जितनी बड़ी हो सकती है। वास्तव में, सहकारी समितियां कृषि, मत्स्यपालन, उपभोक्ता तथा वित्तीय सेवाएं, आवास तथा उत्पादन (श्रमिक सहकारी समितियां) जैसे सभी पारंपरिक आर्थिक क्षेत्रों में स्थापित की जा सकती हैं। दूसरे प्रतिष्ठानों से कई तरह से समान होते हुए, सहकारी समितियां कई प्रकार से विशिष्ट होती हैं, जो वास्तव में समाज और अपने सदस्यों की चिंता करती हैं।

  • स्वामित्व:सहकारी समितियों का स्वामित्व निवेशकों की अपेक्षा अपने सदस्यों के लोकतांत्रिक नियंत्रण में निहित होता है, जो सहकारी समितियों की सेवाओं का उपभोग करते हैं या उनके उत्पाद खरीदते हैं। सहकारी समितियों के सदस्य अपने सदस्यों में से ही निदेशक मण्डल का चुनाव करते हैं।
  • लाभांश:निवेश या स्वामित्व पूंजी के अनुपात की अपेक्षा अतिरिक्त राजस्व (व्यय तथा निवेश से अतिरिक्त आय) सहकारी समिति के उपयोग के अनुपात के आधार पर सदस्यों को लौटाया जाता है।
  • सामाजिक प्रभाव:ये लाभ द्वारा अभिपे्ररित न होकर, अपने सदस्यों की आवश्यकताओं को पूरा करने वाली सेवाओं तथा उच्च गुणवत्ता वाली वस्तुओं तथा सेवाओं द्वारा अभिप्रेरित होती हैं। ये केवल अपने सदस्यों की सेवा के लिए अस्तित्व में आती हैं।
  • परस्पर सहायोग:सहकारी समितियां निवेश तथा आरक्षित पूंजी से प्राप्त आय पर करों का भुगतान करती हैं।

सहकारी समितियों का अतिरिक्त राजस्व व्यक्तिगत रूप से सदस्यों को लौटा दिया जाता है, जो उनपर करों का भुगतान करते हैं। सहकारी अंतर क्या है ? सहकारी समितियां ऐसा उद्यम हैं जो पूंजी की अपेक्षा लोगों को अपने व्यवसाय के केन्द्र में रखते हैं। सहकारी समितियां ऐसी व्यवसायिक प्रतिष्ठान होती हैं जो तीन मूलभूत बातों के आधार पर पारिभाषित की जा सकती हैं। ये हैं – स्वामित्व, नियंत्रण और लाभग्रहण। सहकारी उद्यम में ही केवल ये तीन बातें सीधे उपभोक्ता के हाथ में होती हैं। सहकारी समितियां लोगों को अपने व्यवसाय के केन्द्र में रखती हैं। ये शुद्ध लाभ अर्जन की अपेक्षा मूल्यों को महत्व देती हैं। चूंकि सहकारी समितियां अपने सदस्यों (व्यक्ति या वर्ग और यहां तक पूंजीगत उद्यम) के लोकतांत्रिक नियंत्रण के स्वामित्व में होती हैं, इसलिए सहकारी समितियों के द्वारा लिए गए निर्णय, लाभ अर्जित करने की आवश्यकता, अपने सदस्यों की आवश्यकताओं तथा समाज के व्यापक हितों में संतुलन स्थापित करते हैं। सहकारी समितियां ऐसे उद्यम हैं जो सिद्धांतों तथा मूल्यों के समुच्चय का अनुसरण करते हैं।

Sahakarita Paribhasha Aur Siddhant

सहकारिता परिभाषा एवं सिद्धांत परिभाषा     सहकारी समिति व्यक्तियों की एक ऐसी स्वायत्त संस्था है जो संयुक्त स्वामित्व वाले और लोकतांत्रिक आधार पर नियंत्रित उद्यम के जरिए अपनी समान्य, आर्थिक, सामाजिक एवं सांस्कृतिक आवश्यकताओं को पूरा करने के लिए स्वेच्छा से एकजुट होते हैं। सम्पूर्ण विश्व भर में, 100 मिलियन से अधिक महिला एवं पुरुष सहकारी कार्मिकों तथा 800 मिलियन से अधिक व्यक्तिगत सदस्यों ने छोटे पैमाने से लेकर कई मिलियन डॉलर के व्यवसायों तक अपनी पहुँच बनाई है । मान सहकारिताएं आत्म-सहायता, स्व- उत्तरदायित्व, लोकतंत्र, समानता, समता और एकजुटता के मूल्यों पर आधारित हैं। अपने संस्थापकों की परंपरा का अनुसरण करते हुए सहकारिता के सदस्य ईमानदारी, खुलापन, सामाजिक उत्तरदायित्व और परहित चिंतन जैसे नैतिक मूल्यों का भी अनुसरण करते हैं. सिद्धांत सहकारी सिद्धांत वे मार्गदर्शिकाएँ हैं जिनके द्वारा सहकारिताएं अपने मूल्यों को व्यवहार में लाती हैं । पहला सिद्धांत : स्वैच्छिक और खुली सदस्यता सहकारिता समितियाँ ऐसे स्वैच्छिक संगठन हैं जो सभी लोगों के लिए खुले हैं जो उनकी सेवाओं का उपयोग करने में समर्थ हैं और लैंगिक, सामाजिक, जातीय, राजनीतिक या धर्म के आधार पर भेदभाव किये बगैर सदस्यता के उत्तरदायित्वों को स्वीकार करने के लिए तैयार है । दूसरा सिद्धांत : प्रजातांत्रिक सदस्य-नियंत्रण सहकारी समितियाँ अपने सदस्यों द्वारा नियंत्रित प्रजातांत्रिक संगठन हैं जो उनकी नीतियाँ निर्धारित करने और निर्णय लेने में सक्रिय तौर पर भाग लेते हैं । चुने गये प्रतिनिधियों के रूप में कार्यरत पुरूष तथा महिलाएं अपने सदस्यों के प्रति जवाबदेह होते हैं । प्राथमिक सहकारी समितियों में सदस्यों के मतदान करने के समान अधिकार होते हैं । (एक सदस्य, एक मत) और दूसरे स्तरों पर भी सहकारी समितियाँ प्रजातांत्रिक तरीके से आयोजित की जाती हैं । तीसरा सिद्धांत : सदस्य की आर्थिक भागीदारी सदस्य समान रूप में अंशदान करते हैं और अपनी सहकारी समिति की पूंजी पर प्रजातांत्रिक तरीके से नियंत्रण रखते हैं । कम से कम इस पूंजी का एक हिस्सा आमतौर पर सहकारी समिति की सांझी सम्पत्ति होती है । सदस्यता की शर्त के रूप में अंशदान की गई पूंजी पर सदस्यों को आमतौर पर समिति प्रतिकर, यदि कोई हो मिलता है । सदस्य अधिकोषण पूंजी की निम्नलिखित किसी एक या सभी प्रयोजनों के लिए आवंटित करते हैं सम्भवतः आरक्षित निधियां स्थापित करके जिनका कम से कम एक भाग अभिभाज्य होगा, सहकारी समिति के साथ उनके लेन-देनों के अनुपात में सदस्यों को लाभ पहुंचाकर और सदस्यों द्वारा अनुमोदित अन्य कार्यकलापों में सहायता देकर अपने सहकारी समिति का विकास करेगा । चोथा सिद्धांत : स्वायत्तता और स्वतंत्रता सहकारी समितियाँ अपने सदस्यों द्वारा नियंत्रित एवं स्वावलम्बी संस्थाएं होती हैं । यदि वे सरकार सहित अन्य संगठनों के साथ करार करती हैं अथवा बाहरी स्रोतों से पूंजी जुटाती हैं, तो वे ऐसा उन शर्तों पर करती है जिनसे उनके सदस्यों द्वारा प्रजातांत्रिक नियंत्रण सुनिश्चित होता हो और उनकी सहकारी स्वायत्तता भी बनी रहती हो। पांचवा सिद्धांत : शिक्षा, प्रशिक्षण और सूचना सहकारी समितियाँ अपने सदस्यों, चुने गये प्रतिनिधियों, प्रबन्धकों तथा कर्मचारियों को शिक्षा और प्रशिक्षण उपलब्ध कराती है । ताकि वे अपनी सहकारी समितियाँ के विकास में कारगर योगदान कर सके । वे आम जनता विशेषरूप से युवाओं और परामर्शी नेताओं को, सहकारिता के स्वरूप और लाभों के बारे में सूचना देती है । छठा सिद्धांत : सहकारी समितियों में परस्पर सहयोग सहकारी समितियाँ अपने सदस्यों की सर्वाधिक कारगर ढंग से सेवा करती है और स्थानीय, राष्ट्रीय, क्षेत्रीय और अंतर्राष्ट्रीय ढांचों के जरिए साथ-साथ काम करके सहकारिता आन्दोलन को सुदृढ़ बनाती है। सातवों सिद्धांत : समुदाय के लिए निष्ठा सहकारी समितियाँ अपने सदस्यों द्वारा अनुमोदित नीतियों के द्वारा अपने समुदायों के स्थाई विकास के लिए कार्य करती हैं ।

All State Co-op Ministers & Commissioners

All State Co-op Ministers & Commissioners State-wise-details-of-co.-op.depts_.

Co-op Institutes Websites

Co-op Institutes Websites

Sr. No Institute Website URL
1 National Co-operative Union of India http://www.ncui.coop/welcome.html
2 Indian Dairy Industry www.indiadairy.com
3 National Co-operative Development corporation www.ncdc.in
4 International Co-operative Alliance www.ica.coop
5 Datanet India Pvt. Ltd.(Statistics available to Members) www.indiastat.com
6 Reserve Bank of India www.rbi.org.in
7 National Yuva Co-operative Society www.yuvacooperative.com
8 The Maharashtra State Co-operative Bank Ltd www.mscbank.com
9 National Bank for Agricultural & Rural Development www.nabard.org
10 Gujrath Milk Co-operative Federation (AMUL) www.amul.com
11 Vaikunth Mehta National Institute of Co-op. Mgmt www.vamnicom.gov.in
12 Govt. of India Directory www.goidirectory.nic.in
13 Maharashtra Urban Co-operative Banks Federation www.mucbf.com
14 Federation of Indian Chamber of Commerce & Industry www.ficci.com
15 Indian Banks Association www.iba.org.in
16 Indian Institute of Banking & Finance www.iibf.org.in
17 National Federation of Urban Co-operative Banks & Credit Societies Ltd., Delhi www.nafcub.org
18 National Co-operative Agriculture & Rural Development Banks Federation www.nafcard.org
19 Indian Co-operative Network for Women www.workingwomensforum.org