Back button

 

सहकारिता को समर्पित समाजसेवी संस्था सहकार भारती के संस्थापक श्रद्धेय लक्ष्मणराव इनामदार जी के जन्मशती को समर्पित सहकार भारती पंजाब प्रदेश का अधिवेशन लुधियाना में यू. एस. पी. सी. जैन पब्लिक स्कूल में सम्पन्न हुआ। इस कार्यक्रम का शुभारम्भ पंजाब के प्रधान श्री, सरवन सिंह गरचा क्षेत्रीय सह संगठन मंत्री श्री. अमृत सागर जी द्वारा ध्वजारोहण से किया गया। तत्पश्‍चात् कार्यक्रम के विशेष रूप से पधारे सहकार भारती के राष्ट्रीय महामंत्री श्री उदय जोशी तथा कार्यक्रम के मुख्यातिथी राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ के प्रान्त प्रचारक प्रमोद जी द्वारा ज्योति प्रज्वलित करके भारतमाता तथा श्रद्धेय लक्ष्मणराव इनामदार को श्रद्धासुमन अर्पित किये गये। तीन सत्रों में चले इस कार्यक्रम की अध्यक्षता रा.स.स. लुधियाना के विभाग संघचालक तथा उद्योगपति श्री मोहिन्द्र जैन ने की। उन्होंने सहकारिता के क्षेत्र में सहकार भारती द्वारा किये जा रहे कार्यों की सराहना करते हुये सभी क्षेत्रों में सहकारिता लाकर जो लाभ प्राप्त किये जा सकतें है, उनकी चर्चा की। कार्यक्रम के पहले सत्र मेंे राष्ट्रीय महामन्त्री उदय जोशी जी ने सहकार भारती के लक्ष्यों और किये गये कार्यों को विस्तार से बताया। उन्होंने बताया कि कैसे सहकार भारती के सहयोग से देश के सभी प्रदेशों में लोगों ने स्वयं सहायता समूह और सोसाइटियों का गठन करके ना केवल अपने आर्थिक स्तर को उपर उठाया हैं, बल्कि देश के आर्थिक विकास में भी महत्वपूर्ण योगदान दिया है।

सहकार भारती पंजाब प्रदेश के महामन्त्री श्री राजीव शर्मा ने पंजाब में सहकार  भारती द्वारा चल रहे आयामों के बारे में बताया। उन्होंने  कहां कि सहकार भारती पंजाब को 12 जिलों में अपनी टीमों का गठन कर चुकी है, तथा सहकार भारती के सदस्य पंजाब के विभिन्न शहरों तथा गांवों में जा कर लोगों की समस्याओं को समझ कर उन्हें सहकारिता से जुडने के लिये प्रेरित कर रहे हैं, और सहकार भारती के प्रयासों से बहुत से लोग विशेषत: बेरोजगार युवा तथा महिलायें ना केवल अपने लिये बल्कि दूसरों के लिये भी रोजगार जुटाने का जरिया बने है। कार्यक्रम के मुख्यातिथि श्री प्रमोदजी ने सहकार भारती का कार्य पावन तथा महत्वपूर्ण मान कर पूर्ण निष्ठा तथा ईमानदारी से करने पर बधाई देते हुये कहा कि सहकारिता शुरु से ही हमारी संस्कृति और संस्कारों में शामिल रहीं है। हमारे सब रीति रिवाजों तथा सामाजिक सोहार्द का तानाबाना, समाज में आपसी प्रेम और भाईचारे को लेकर बुना गया है, जो कि सहकारिता का ही एक रूप है। सहकारिता के जरिये ना केवल देश उन्नति करेगा बल्कि समाज में फैले कई भेदभाव और कुरीतियां भी खुद भी खुद दूर हो जायेगी। उन्होंने अपनी ओर से सहकार भारती को हर तरह का सहयोग देने का विश्‍वास दिलाया। इस अवसर पर उपस्थित सभी सदस्यों पर पंजाब अधिवेशन को समर्पित पत्रिका सहकार समारिका का भी विमोचन किया गया, जिसे सहकार भारती के सभी अधिकारियों के सहयोग, आशीर्वाद और देख रेख में पंजाब महामन्त्री राजीव शर्मा तथा जालन्धर जिला कार्यालय सचिव संदीप छिब्बर, अमृतसर अध्यक्ष धरमवीर धवन  द्वारा सम्पादित किया गया है।

कार्यक्रम के दूसरे सत्र में सहकारिता के क्षेत्र की सभी ईकाईयों के बारे में विस्तार से बताया गया। श्रीमती ज्योति, दुर्गेश शर्मा, हरि चन्द कम्बोज, रविन्द्र सिंह ठाकुर ने क्रमश: स्वयं सहायता समूह, को-आपरेटिव क्रेडिट एंड थ्रिफ्ट सोसाईटी, पेक्स तथा मार्केटिंग सोसायटीज के महत्व, निर्माण प्रक्रिया तथा दिशा निर्देशों के बारे में विस्तार से बताया। उन्होंने पंजाब में सहकार भारती के सहयोग से चल रहीं सफल ईकाइयों द्वारा अपनायें गये मार्ग तथा उनके द्वारा थोडे समय में प्राप्त किये गये बडे लक्ष्यों के बारे में भी बताया। इस सत्र में जालन्धर से पधारे सिटीजन को-आपरेटिव बैंक के चेयरमैन विशेषातिथी के. के. शर्मा ने थोडे समय में पंजाब में किये महत्वपूर्ण कार्यों के लिये  सहकार भारती की भूरि भूरि प्रशंसा की। उन्होंने आये हुये सभी कार्यकर्ताओं और श्रोताओं को अपने बैंक का उदाहरण देते हुये कहा कि सहकारिता के क्षेत्र में आपसी सहयोग, लगन, विश्‍वास तथा ईमानदारी से काम करके किसी भी लक्ष्य को प्राप्त किया जा सकता है, तथा सहकारिता आज के युग की एक महत्वपूर्ण जरूरत  बन गई है। इस अवसर पर सहकारिता के क्षेत्र में दूसरों के लिये उदारण बन चुके कुछ सफल तथा गतिशील स्वयं सहायता समूहों को सम्मानित भी किया गया।

कार्यक्रम के तीसरे सत्र में सहकार भारती के पंजाब प्रदेश की ईकाई के गठन हेतु चुनाव राष्ट्रीय सचिव देवेंन्द्र सिंह की देख रेख में हुये जिसमें सर्व सम्मति से पुन: श्री सरवन सिंह गरचा को प्रधान, श्री राजीव शर्मा को महासचिव तथा श्री शंकर दत्त तिवारी को संगठन सचिव चुना गया। प्रधान तथा महासचिव ने आगे अपनी कार्यकारिणी गठित करते हुये श्री संदीप छिन्नर को कार्यालय मन्त्री तथा श्री तरसेम डाबर को कोषाध्यक्ष चुना। श्री रविंन्द्र ठाकुर, श्री हरिचंद कम्बोज तथा सुश्री नेहा कुन्दरा को उपाध्यक्ष, श्री रमण कुमार, श्री विकास शर्मा, श्री रोहताश जी, श्रीमती ज्योति शर्मा को सचिव, श्री अरीवनी शर्मा को सहकोषाध्यक्ष बनाया गया। श्री दुर्गेश शर्मा को क्रेडिट थ्रीफ्ट सोसाईटीज तथा श्री डी.पी. गुप्ता को स्वयं सहायता समूह का प्रभारी बनाया गया। नवनियुक्त प्रधान सरवन सिंह गरचा ने अपनी नवनियुक्त टीम पर विश्‍वास जताते हुये कहा कि आने वाले समय में वे अपनी टीम के साथ पंजाब के हर कोने में जा कर सहकारिता को मजबूत बनाने की कोशिश करेंगे तथा सहकारिता के क्षेत्र में आने वाली समस्याओं को दूर करने तथा सरकार द्वारा उपल्ब्ध योजनाओं को लोगों तक पहुंचने का भी भरसक प्रयास करेंगे। कार्यक्रम में मुख्य वक्ता सहकार भारती के राष्ट्रीय संगठन मन्त्री श्री संजय पाचपोर ने अधिवेशन के सफलतापूर्ण आयोजन पर पंजाब प्रदेश की सभी कार्यकारिणी को बधाई देते हुये कहा कि पंजाब की भूमि पर सभी गुरुओं ने भी सहकारिता का ही सबक पढाया है। सहकारिता के बारे में माना जाता है, कि यह जर्मनी से शुरु हो कर अनेक देशों से होती हुई भारत आई। लेकिन जब हम अपने धर्म, इतिहास तथा संस्कृति पर नजर मारते हैं, तो पता चलता है कि सहकारिता तो देवों, ऋषि मुनियों के युगों से ही हमारे देश में मौजूद थी और आज भी हमारे संस्कारों तथा समाज में कईं रूपों में मौजूद है। अब भी किसी के बेटी की शादी पर फक्र के साथ कहा जाता है कि हमारे गाँव की बेटी की शादी है। तथा सब लोग ऐसे पुण्य कार्यों में तन मन धन से सहयोग करते हैं, यह भी एक तरह की सहकारिता ही है। उन्होंने नवनियुक्त टीम को बधाई देते हुये कहा कि सहकारिता के कार्य को और अधिक महत्त्व और गति देने की जरूरत है। हमें लक्ष्य निर्धारित कर के तथा संगठित हो कर आगे बढना होगा ताकि हम पंजाब के सभी जिलों में अपनी ईकाईयाँ गठित कर सकें तथा और कार्यकर्ताओं को अपने साथ जोड सके। इस कार्यक्रम में श्री हरिपाल गुप्ता तथा श्री दीपक जी ने मंच संचलन कुशलतापूर्वक किया। कार्यक्रम के अन्त में जिला लुधियाना के प्रधान श्री रोहताश जी ने कार्यक्रम में आये हुये सभी अतिथियों तथा कार्यकर्ताओं का धन्यवाद किया। उन्होंने कहा कि लुधियाना के कार्यकर्ताओं ने पंजाब के अन्य क्षेत्रोंे की कार्यकारिणी से मिल कर दिन रात अथक परिश्रम करके इस कार्यक्रम को सफल बनाया है। उन्होंने विशेष रूप से लुधियाना से तरसेम डावर, जालन्धर से संदीप छिन्नर, बुद्धि प्रकाश शर्मा, अमृतसर से धर्मवीर धवन, कमल, कुन्द्रा, पठानकोट से गौरव ठाकुर, फिरोजपुर से सोनू कम्बोज का भी अपने जिलों से कार्यकर्ताओं को कार्यक्रम में भाग लेने तथा कार्यक्रम को सफल  बनाने हेतू सुझाव देने हेतु धन्यवाद किया। कार्यक्रम में सभी अतिथियों के लिये जलपान एवं भोजन की व्यवस्था की गई। इस कार्यक्रम में 350 से अधिक लोगों ने भाग लिया। आयोजन स्थल पर सहकार भारती के सहयोग से चल रहे विभिन्न स्वयं सहायता समूहों द्वारा अपने उत्पादों का प्रदर्शन तथा विक्री भी की गई जिन्हें खरीदने में लोगों ने विशेष उत्साह दिखाया। क्योंकि ये सभी उत्पाद गुणवत्ता, शुद्ध तथा सस्ते दामों पर उपलब्ध थे। इस कार्यक्रम को सफल बनानें में वरिंन्द्र अरोडा, गोविन्द, विजय, रोहित, करिश्मा कपूर, अंशू शर्मा, अनु छिन्नर, आशू शर्मा अमित आदि ने भी विशेष योगदान दिया।

Back button