Back button

महिला सहकारी बँक तथा महिला सहकारी पतसंस्था का संचालन करनेवाले महिलाओं का अभ्यासवर्ग दि. 28 29 अक्टूबर में कर्नाटक, तुमकुर में सम्पन्न हुआ।

इस अभ्यासवर्ग में कर्नाटक से 16 जिलों में से 25 संस्थाओं की 128 महिला प्रतिनिधि संमिलित हुई। पहले दिन महिलाओं का परस्पर परिचय, अनौपचारिक संभाषण तथा मुक्त संवाद हुआ। इस सत्र में डॉ. अरुणा आक्की और श्रीमती भारती भट ने मार्गदर्शन किया।

दुसरे दिन सुबह अभ्यासवर्ग का उद्घाटन हुआ। उद्घाटन के समय अखिल भारतीय महिला प्रमुख सहकार भारती सौ. संध्याताई कुलकर्णी, महिला प्रकोष्ठ प्रमुख विजयाताई भुसारी, राष्ट्रीय उपाध्यक्षा भारती जी भट, कर्नाटक प्रांत संगठन कार्यदर्शी श्री सतिशचंद्र जी, डॉ. अरुणा आक्की मंचपर विराजमान थे। श्रीमती संध्याताई ने कहा कि, महिला संगठित होकर मुश्किल काम बड़े सहज रूप से कर देती हैं। हमारी महिला संस्थंाए महिला को आर्थिक स्वावलंबन तो लाती ही है, उसी के साथ हमें सामाजिक बाध्यता के बारे में भी सोचना चाहिए। यह करते वक्त महिलाओं में आत्मविश्‍वास, आर्थिक समृद्धी आती है।

हमारे परिवार से ही सहकारिता की शुरुआत होती है। अगर परिवार में सहकारिता नहीं रही तो उसका परिणाम हम जानते हैं। हमारा व्यक्तित्व परिवार में ही उभरता है। हमें परिवार के साथ रहकर आगे जाना है।

आज अगर स्पर्धा में रहना हो तो खुदको र्ीविरींश रखना पडेगा। उसके लिए ऊळसळींरश्र श्रळींशीरलू पर षेर्लीी करना होगा। इस अभ्यासवर्ग को युवा, महिला सम्मीलित होने पर उन्हांने खुशी जताई। श्री गंगाधरय्याजी, अध्यक्ष, सौहार्द फेडरेशन ने भी शुभकामनाएं दी।

समारोप सत्र में कृष्णा रेड्डी, अध्यक्ष सौहार्द फेडरेशन ने मार्गदर्शन किया। लिलादेवी आर. प्रसाद, अध्यक्ष सौहार्द महिला बँक, माजी मंत्री ने अपने अनुभव व्यक्त किए। विजयाताई भुसारी ने सहकार भारती के काम के बारे में विस्तृत जानकारी दी। कर्नाटक प्रांत की नयी गठित महिला कार्यकारिणी सदस्य का सम्मान किया गया। अध्यक्ष श्री सतिशचंद्रजी ने यथोचित मार्गदर्शन किया।

Back button