Back button

विवेक चतुर्वेदी अध्यक्ष और उमाकांत दीक्षित महामंत्री निर्वाचित

शाजापुर : गत दिवस शाजापुर के पटेल गार्डन में सहकार भारती का प्रदेश अधिवेशन सम्पन्न हुआ, जिसमें प्रदेश भर से आये हुए 1240 से अधिक प्रतिनिधियों ने भाग लिया। जिसमें 135 महिलाएं शामिल थी।

अधिवेशन का शुभारंभ सहकारी ध्वज के ध्वजारोहण के साथ हुआ। इस अवसर पर लक्ष्मणराव इनामदार जन्मशती वर्ष में आयोजित कार्यक्रमों की चित्र प्रदर्शनी लगाई गई, जिसका उद्घाटन सहकार भारती के राष्ट्रीय महामंत्री उदय जोशी जी एवं राष्ट्रीय सह संगठन मंत्री बोबड़े जी द्वारा किया गया।

* समाज के व्यापक कल्याण के लिए दुश्मन का भी सहयोग लें : जोशी

उद्घाटन सत्र को संबोधित करते हुए राष्ट्रीय महामंत्री उदय जी जोशी ने कहा कि, सहकारिता ही वह विषय है जिसमें आप समाज के व्यापक कल्याण के लिए अपने दुश्मन से भी सहयोग ले सकते हैं। समुद्रमंथन इसका प्रत्यक्ष प्रमाण है। समुद्र से रत्नों की प्राप्ति के लिए परस्पर शत्रु होने के बाद भी देवता और दानव एक मंच पर आए। स्वागत भाषण भाजपा के प्रदेश संयोजक सहकारिता प्रकोष्ठ नेमिचंद जी जैन ने दिया। इस अवसर पर क्षेत्रीय सांसद मनोहर ऊँटवाल और विधायक गण भी मंच पर मौजूद थे।

मुख्य अतिथि के रूप में राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ के प्रांत कार्यवाह और सहकार भारती के पालक श्री अशोक जी अग्रवाल उपस्थित थे। श्री अग्रवाल ने कहा कि सहकारिता का जन्म इंग्लैंड में हुआ ऐसा इतिहास में आता है, किन्तु भारत मे सहकारिता अनादिकाल से है। वेदों की ऋचाओं में सहकारिता का उल्लेख मिलता है। समुद्र मंथन और रामसेतु सहकारिता के अनुपम उदाहरण हैं।

द्वितीय सत्र में श्री विवेक चतुर्वेदी ने राजनीतिक प्रस्ताव रखा, जिसमें इंदौर के श्री शरद किवे एवं श्री नारायण चौधरी जबलपुर ने संशोधन पेश किए। सर्वसम्मति से प्रस्ताव संशोधन के साथ पारित हो गया।

तृतीय सत्र में मीठी क्रांति का आगाज किया गया। शहद उत्पादन के विषय पर शरद जी भण्डावत ने विचार रखते हुए बताया कि दिल्ली में आयोजित सहकार भारती के आयोजन में प्रधानमंत्री श्री नरेन्द्र मोदी ने सहकार भारती से मीठी क्रांति लाने का आह्वान किया।

चतुर्थ सत्र में निर्वाचन अधिकारी श्री मार्कण्डेय सिंह जी प्रदेश की निर्वाचन प्रक्रिया आरम्भ की। जिसमें सर्वसम्मति से श्री विवेक चतुर्वेदी टीकमगढ को अध्यक्ष एवं श्री उमाकांत दीक्षित भोपाल को महामंत्री चुना गया। इस अवसर पर प्रदेश कार्यकारिणी की घोषणा भी की गई्,। श्री रामचन्द्र गोयल को मालवा प्रान्त, श्री अशोक टेकाम को महाकोशल और श्री बाबूलाल ताम्रकार को मध्य भारत प्रान्त के अध्यक्ष का दायित्व दिया गया। श्री संजय नायक को प्रदेश संगठन प्रमुख एवं गजेंद्र सिंह गौतम को मीठी क्रांति के प्रदेश प्रभारी की जिम्मेदारी दी गई।

* संख्या नहीं गुणवत्ता पर ध्यान दें : पाचपोर

समापन सत्र को सहकार भारती के राष्ट्रीय संगठन मंत्री श्री संजय पाचपोर ने संबोधित किया। पाचपोर ने कहा कि, हमें संख्या से अधिक गुणवत्ता पर ध्यान देना चाहिए। उन्होंने कहा कि देश में अब कोई गरीब नहीं है। केवल तीन परिस्थितियां व्यक्ति को गरीब बनाती हैं। पहली जब उसे अपना घर बनाना हो, दूसरी अपने बच्चों को अच्छे स्कूल में पाना हो और तीसरी जब उसे किसी गंभीर बीमारी का इलाज करवाना हो। इन तीनों परिस्थितियों में केवल सहकारिता ही वह सशक्त माध्यम है, जो व्यक्ति की पूर्ण सहायता कर सकता है।

Back button